HomeNew mobileAirtel 5G vs Jio 5G India Launch: Plans Price, Launch Date, Cities,...

Airtel 5G vs Jio 5G India Launch: Plans Price, Launch Date, Cities, 5 G Speed

 Jio 5G pack | Airtel 5G Pack |5 G RECHARGE PACK

दिवाली से पहले शुरू होने जा रही 5G की प्रक्रिया में अब आप यह सोच रहे होंगे इसके क्या क्या पैक रहे में कितने का रिचार्ज हमको अपने मोबाइल में कराने पड़ेगा तो इसकी अभी ऑफिशियल घोषणा कोई नहीं है लेकिन होने वाली है जल्द ही दीपावली पर यह 5G की सुविधाएं आपको मिलेंगे आईए हम विस्तार से जानते हैं 5G के क्या क्या रिचार्ज आएंगे क्या फायदे होंगे इसके

Airtel 5G vs Jio 5G India Launch: Plans Price, Launch Date, Cities, 5 G Speed

हाल ही में हम बात करेंगे। 5G ki जाने की सरकार ने 5g स्पैक्ट्रम बेच कर कितनी कमाई की है। देश में  5g सेवाएं कब से शुरू होने की संभावना है।

 इसके अलावा ये भी जानें कि 5G जी तकनीक से हमें क्या क्या फायदे होने वाले हैं? इन सभी पहलुओं पर विस्तार से चर्चा करेंगे? नमस्कार। मेरा नाम chandra shekhar  और आप देख रहे हैं हाँ,  5 जी स्पेक्ट्रम की नीलामी प्रक्रिया सोमवार 1 अगस्त को खत्म हो गई। 

इस प्रक्रिया में रिलायंस जियो, भारती एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया और etc  इन कंपनियों ने स्पेक्ट्रम खरीदने में भारी भरकम रकम खर्च की। इन चारों कंपनियों ने सरकार से 1,00,050 हज़ार 100 ₹73 करोड़ कीमत का स्पेक्ट्रम खरीदा है। यह रकम सरकार के अनुमान से कहीं ज्यादा है। अलग अलग बार में स्पेक्ट्रम के लिए रिलायंस जियो और indian airtel ने आक्रामक तरीके से बोली लगाई है।

 टेलीकॉम मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बाद में नीलामी में बोली मीरा के सभी दान के लिए अच्छी प्रतिस्पर्धा देखने को मिली है। 5G एयरवेव्स से मिली रकम दो हज़ार 15 में नीलामी से प्राप्त 1,09,000 करोड़ रुपये के रिकॉर्ड राजस्व से कहीं अधिक है। आपको बता दें कि 24 जुलाई 2 हज़ार 22 को 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी शुरू हुई थी और सात दिन तक नीलामी चल 5G तकनीक क्या है।

 इससे आपको क्या फायदा होने वाला है। वैसे तो 5G तकनीक क्या है इस पर बहुत बात हो चुकी है। फिर भी आपको बता देते हैं। तकनीक क्या है किस तरह काम करती है। 5G तकनीक मुख्यतौर पर थ्री बान पर काम करती है। हाई मीडिया मं लो फ्रीक्वेंसी पर इंटरनेट की स्पीड अलग 

होती है जैसे कि ऊपर घंटे एमबीपीएस हाई स्पीड को जीबीपीएस तक जा सकती है। कुल मिलाकर आज के दौर की अनेक 4 जी की स्पीड से 10 गुना ज्यादा नई तकनीक से पहले ही मौत होने वाली है। 

उदहारण 5G तकनीक से मूवी डाउनलोड करने में सिर्फ छह सेकंड लगेगें जो कि मौजूदा 4G तकनीक में मूवी को डाउनलोड करने में अगर सात मिनट लगते हैं। इसके अलावा नई पीढ़ी की 5 जी तकनीक से और भी कई काम आसान हो जाएंगे। जैसे रोबोट के जरिए जटिल से जटिल ऑपरेशन करना आसान हो जाएगा। पर सर्विस शुरू होने के बाद ऑटोमेशन का एक नया दौर शुरू होगा। अभी तक जो चीजें बड़े शहरों तक सीमित हैं, उनकी पहुंच गांवों तक होगी, जिसमें ई मेडिसिन शामिल है। शिक्षा क्षेत्र को जबरदस्त फायदा होगा। इससे देश की अर्थव्यवस्था को भी रफ्तार मिलेगी। इस बारे में तत्काल कंपनी के फाउंडर फैजल मूसा से बातचीत की। आइए सुनते हैं।

बहुत सालों से हर जो मोबाइल सेवाएं हैं उसमें एक जेनरेशन 5G साल, छह साल तीन साल से पाँच साल के बाद एक नई जनरेशन आती है ,और वो जनरेशन जब नई टेक्नॉलजी की आती से पहले टू जी थ्री जी फोर जी और आई थी तो जब जब नई जनरेशन आती वो अपने साथ कुछ नए फीचर और नए कुछ फायदे ले आती है। 

5G के फायदे 5G के निम्नलिखित फायदे होंगे

जैसे कि अब जो हम बहुत ही इन बेसिक लेवल देखते हैं तो हम बोल देंगे। इसे स्पीड ज्यादा मिलेगी। ये ज्यादा फास्ट होगा। ये ज्यादा कपैसिटी का होगा तो ये तो बेसिक चीजें हैं, लेकिन अगर हम एक ही यूजर की फिर से बात करें तो एक तो जैसे बताया कि गेमिंग होगी। इससे ज्यादा स्पोर्ट्स गेमिंग हम कर सकते हैं जैसे अभी हम देखिए time का अभी बहुत चला है। हम कंटेंट वीडियो और टीवी प्रोग्राम ये सारा एपिसोड देख रहे हैं, लेकिन अब आगे जा के हम गेम्स भी otp के थ्रू ही ऐसे ही एप्लिकेशंस के थ्रू खेलेंगे। आप ये तो कुछ कंज्यूमर साइड पे बट अगर अब आप जो बेसिक बेसिक डिफरेंस देखोगे अभी तक हम टेक्नोलॉजी के बाहर है। मैं एक यूज़र हूं। मैं टेक्नोलॉजी के जो भी ऐप्लिकेशंस उसके बाहर लेकिन जब आप फाइनली स्टार्ट हो जाएगा। कंज्यूमर के लिए तो कंज्यूमर को बहुत सारे ऐसे एप्लीकेशंस मिलेंगे जहां पे यूज़र टेक्नोलॉजी के अंदर रहने लगेगा। जैसे मेटा वर्ड्स है या जिसको हम इमर्सिव एप्लिकेशंस बोलते एआरबी या ये सब चीजें सिटी के फाइव जी अभी तक जो अभी तक जो जेनरेशन आई है मोबाइल कम्यूनिकेशन की उनका ज्यादा फोकस रहा है। एक आम इनसान ह्यूमन से कैसे कम्यूनिकेट करे। एक दूसरे के बीच उसी में अभी तक सारा फोकस रहा। पहले

पहले कि नेटवर्क तथा आज के नेटवर्क में क्या अंतर है ,5G NETWORK

आपने आपने देखा होगा कि पहले एक कॉल कर पाते थे। फिर एसएमएस एमएमएस पेड व्हाट्सएप, ईमेल, वीडियो, कॉल, सबका जमाना आगया, लेकिन जो ज़ाहिर की है फाइनली उसके बाहर जाकर फाइनली इसका जो मुख्य आप जो इसका एक बेनिफिट है वो यह है कि इनसान से इंसान की जो कम्यूनिकेशन वो तो बढ़ेगी बढ़ेगी लेकिन इन सारी चीजों की जिसे हमारे गैर हमारा पब्लिक इन्फ्रास्ट्रक्चर आज हमारे ऑफिसेस और हमारी सड़कें हम बाकी जो भी आप बाकी चीजें जिनके साथ एक इनसान को कनेक्ट करना पड़ता है। फाइव जी के द्वारा वो कनेक्शंस भी पॉसिबल हो जाएंगे तो जो हम बहुत टाइम से सुनते आ रहे हैं। स्मार्ट और स्मार्ट सिटी और स्मार्ट इवेन्ट्स। बाढ़ का हम वो सब चीजें अब एक रियलिटी बनेगी।

सबसे पहले कौन-कौन से शहरों में 5G की सेवाएं उपलब्ध होंगी

स्पेक्ट्रम खरीद करने के बाद सबकी नजर उसपर लगे कि देश में डिजिटल कौन सेवाएं कब शुरू होगी। मीडिया में आई रिपोर्ट के मुताबिक पहले चरण में देश के 13 शहरों में 5 जी सेवा शुरू हो सकती है।

 इसमें अहमदाबाद बन। चंडीगढ, छह, नई दिल्ली, गांधीनगर, गुरूग्राम, हैदराबाद, जामनगर, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई और पुणे शामिल। देश के तीनों प्रमुख टेलीकॉम कंपनियों भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने देश के अलग अलग शहरों में आईटी के ट्रायल किए हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक टेलीकॉम कंपनियों को पाँच जी स्पेक्ट्रम आवंटन के बाद ये टेलीकॉम कंपनियां अक्टूबर 2 हज़ार 22 में देश के कई बड़े शहरों में आईटी मोबाइल सेवा शुरू कर देंगी। यानि हम इस साल के अंत तक देश के चुनिंदा बड़े शहरों में पांच जी नेटवर्क देखने को मिल सकता है। पूरे देश में सेवाएं होने में अभी एक साल का वक्त लग सकता है। हालांकि प्लान जियो की ओर से संकेत मिला है कि कंपनी देश में पांच सर्विस 15 अगस्त से शुरू कर सकती है। जानकारों का कहना है कि कंपनी ने स्पेक्ट्रम नीलामी के दौरान इतना स्पेक्ट्रम खरीदी आज वो फायदे सर्विस को देश में बड़े पैमाने पर लॉन्च कर सकती है। पांच जी स्पेक्ट्रम की नीलामी में रिलायंस जियो ने बाजी मारी है। आज नीलामी को डेढ़ लाख करोड़ रुपए ही मिले, जिसमें से अकेले जियो ने 88 हज़ार 78 करोड़ का स्पेक्ट्रम खरीदने में 50 फीसदी से अधिक के स्पेक्ट्रम पर जियो का कब्जा है। पांच जी स्पेक्ट्रम के तहत 51 हज़ार 236 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी हुई है। स्पेक्ट्रम नीलामी में सबसे अधिक बोली लाइन जियो इन्फोकॉम ने अपने नाम किया है। रिलायंस ने कुल 24 हज़ार 740

भारत में सबसे सस्ता होगा 5G network.

अभी हम इनके प्लान की बात करें जियो idea-vodafone तो अभी तक उनकी ऑफिशियल घोषणा नहीं की गई है जैसे ही कोई ऑफिशियल घोषणा होगी और आपके वाउचर आएंगे वैसे ही वेबसाइट पर लॉन्च कर दिए जाएंगे अभी यह संदेह बना हुआ है लेकिन यह 5G दीपावली पर हंड्रेड परसेंट लॉन्च होगा और 1 जनवरी 2023 से लगभग सभी शहरों में भारत के 5G देखने को मिलेगा |

5जी की  स्पीड होगी

मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की खरीदारी की है। देश में मौजूद अनजान लोग बेसब्री से पूरी की जा रही सबसे पहले जियो अपने ग्राहकों को जीत का तोहफा देने वाला है। बाजार में 15 अगस्त को लॉन्च हो सकती है। ऐसा इसलिए भी कहा जा रहा कि हाल ही में रिलायंस जियो के चेयरमैन बने आकाश अंबानी ने कहा, हम आजादी का मतलब पूरे भारत में पाजी बॉलावुड के साथ मनाएंगे। जियो विश्वस्तरीय पाँच जी की पेशकश करने के लिए प्रतिबद्ध है। राय जियो के सम्मान में अपने बयान में कहा, हमारा हमेशा से मानना रहा है कि नई टेक्नॉलजीज को अपनाकर भारत दुनिया की एक प्रमुख आर्थिक शक्ति बन जाएगा। यही वह दृष्टि और दृढ़ विश्वास था जिसने जियो को जन्म दिया। जियो के रोलआउट की गति पैमाना और सामाजिक प्रभाव दुनिया में बेजोड़ है और 

फर्जी तकनीकी से हमारे देश को क्या-क्या लाभ होंगे

अब भारत में जियो पांच जी तकनीक के क्षेत्र में नेतृत्व करने के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने आगे कहा, हम ऐसी सेवाएं और समाधान प्रदान करेंगे जो भारत की डिजिटल क्रांति को रफ्तार देंगे। विशेषरूप से शिक्षा, स्वास्थ, कृषि, पाथवे और गवर्नेंस जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में। माननीय प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया मिशन को साकार करने में हमारा अगला गौरवशाली योगदान है। ये बात पांच एमएस भाटिया खरीदी है। भारती एयरटेल ने 19 हज़ार 867 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की खरीददारी की है। वहीं वोडाफोन आइडिया ने छह हज़ार 228 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की खरीददारी की है। इसके अलावा दूरसंचार की दुनिया में पहली बार कदम रख रही। अडानी डेटा नेटवर्क ने 400 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की खरीददारी की है। दूरसंचार क्षेत्र के दिग्गज सुनील भारती मित्तल की है। अटल ने 43 हज़ार ₹84 करोड़ जबकि वोडाफोन आइडिया ने 18 हज़ार 700 ₹99 करोड़ का

स्पेक्ट्रम खरीदा है। अदानी समूह ने छह राज्यों गुजरात, मुंबई, कर्नाटक, तमिलनाडु, राजस्थान और आंध्र प्रदेश में 26 मेगाहर्ट्ज बैंड में स्पेक्ट्रम खरीदा है। ये प्राइवेट नेटवर्क स्थापित करने के लिए खरीदा गया है। इस बारे में एक्सपर्ट से बात क्या ये उनका नजरिया सुनते हैं जो।

इसे भी पढ़ें

Holiday list 2022

सरकारी कर्मचारियों की कितनी सैलरी बढ़ेगी DA

माध्यमिक विद्यालयों में ट्रांसफर के नियम

आईफोन 14 best future

ट्विन टावर गिराए जाने के क्या क्या कारण है

Rate this post
RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments